सोशल नेटवर्क गूगल + Band Hone Ki 10 Badi वजह (Main Reasons) | गूगल प्लस Turn Off Reasons

    गूगल ne apne official blog par सोशल नेटवर्क गूगल+ (गूगल प्लस) को band karne का announcement कर  diya है. Consumer के लिए गूगल+ end हो Gaya है. Is post में hum janenge aakhir kyu band hua गूगल+ के turn off hone की 10 badi वजह.


    गूगल प्लस Turn Off Reasons
    गूगल प्लस Turn Off Reasons

    गूगल प्लस Turn Off Reasons

    गूगल के ek spokesman ne kaha की "गूगल+" को band karne का main reason btate hua kaha की गूगल प्लस को banane से le कर  manage karne में बहुत saare challenge the.

    इसे customer की expectations के according design kiya gaya था लेकिन iska kam istemal hota था. Ye ही गूगल+ के shut down died hone की main वजह है.

    गूगल+ का the end hone के और भी बहुत से karan है jinke bare में hum niche baat karenge.


    Why गूगल+ Died - 10 Big Reasons in Hindi

    गूगल ne apne official blog par गूगल+ service को off karne का announcement कर  diya है, Agar आप janna chahate है की गूगल+ kyu band hua to uski वजह ye है.


    1. Fail to Compete with फेसबुक

    गूगल ne गूगल+ को सोशल मीडिया फेसबुक को takkar dene के लिए banaya था लेकिन गूगल प्लस isme success na हो saka. Jab गूगल+ launch hua to इसके pas koi clear plan नहीं था.

    Bas फेसबुक से fight karne के लिए और koi big mission नहीं था. गूगल employees को lagta था की वो us सोशल networking साइट को takkar de sakte है jo last secen year से popular है.


    2. Boring Design

    गूगल+ ek सोशल मीडिया साइट है लेकिन इसके design को dekh कर  ऐसा नहीं lagta. Ye बहुत ही boring है, jis user के लिए नहीं है use भी kuch time bad boring feel hoti है. Isme वो interest नहीं था jo फेसबुक, twitter में है.

    गूगल+ के design को le कर  बहुत से users इसे leave कर  dete है. Old design की वजह से user को boring hoti है. Sath ही इसके features aese है की newbie को samajh ही नहीं aate.


    3.  Confusing Circles

    Kai logo को गूगल+ circle confusing lagti है. इसके features बहुत ही complex है और friend और family member से connect hone में भी problem है. User को apne ही circle में pata नहीं chalta की uske circle में kitne mbers है.


    4. Bad Mobile Experience

    Jaha फेसबुक और twitter clear and neat mobile browsing experience provide करते है wahi googe+ का mobile version बहुत ही alag था.

    फेसबुक, twitter को takkar dene के लिए गूगल+ का interface enough नहीं था और बहुत ही kam users isme interest lete है. वो iski bajaye fb chalana pasand करते the.


    5. Failed to Offer Something New

    फेसबुक और twitter time to time apne visitors को kuch na kuch new offer करते rahte है. Design, offer, features, new features, security, bug etc. update aati rahti है.

    Isse user का believe badhta है और वो साइट को और jyada like करते है लेकिन गूगल+ के sath ऐसा bilkul नहीं था. Update नहीं aati, na ही koi features change hote है, hard features है और unme भी long time tak koi changes नहीं.


    6. Listening to Employees Not Customers

    गूगल+ के fail hone की वजह ek ye भी है की वो सोशल heart jitne में fail raha है. People फेसबुक को गूगल+ से compare करते है और sochte है की dono में से konsa jyada majedar है.

    लेकिन गूगल+ को customer की नहीं employees की pasand से design kiya gaya था. Isi वजह से इसे Orkut, Wave, Buzz, गूगल Health, गूगल Powermetter और ab गूगल+ का name diya gaya.

    Isse clear hota है की गूगल ne customers से jyada apne employees की suni और at last गूगल+ service failed हो gayi.


    7. Overconfidence on Own Mission

    गूगल duniya का no.1 search engine है और log use बहुत pasand भी करते है. लेकिन jarur नहीं है की आप top par है to आपकी har ek service (good or bad) success हो jayegi और log use like भी karenge.

    गूगल को apne आप, apni service par बहुत jyada believe था. गूगल employees को lagta था की वो seven year से popular सोशल मीडिया साइट फेसबुक को easily takkar de denge. Ye ही wishwas गूगल को le dooba.


    8. गूगल प्लस is exactly like फेसबुक

    Agar aapne फेसबुक के alawa twitter का भी istemal kiya hoga to आप jante honge की twitter के features फेसबुक से bilkul different है. Balki dono puri tarah से alag है.

    Jabki गूगल+ को फेसबुक features को ही ultfer कर  banaya lagaya है. Like, comments, share etc. mostly features फेसबुक jaise ही है. Ye भी bada karan है गूगल+ के fail hone का.

    फेसबुक user dusri सोशल साइट का use tabhi karenge jab unhe फेसबुक से different और jyada interested feature wali सोशल साइट milegi.


    9. Failed to Install an Established नेटवर्क

    फेसबुक सोशल मीडिया में top par है agar गूगल iski ranneeti को samajh कर  गूगल+ launch karna था लेकिन गूगल isme fail हो gaya.

    फेसबुक को takkar dene के लिए us jaisa ही established नेटवर्क banane की jarurat thi jo गूगल नहीं कर  paya और natijan गूगल+ fail हो gaya.


    10. Not to Many Users

    गूगल+ फेसबुक, twitter की tulna में बहुत pichhe rahe gaya है, बहुत kam log iska istemal करते है. Sarting में user isme interest dikhate the लेकिन ab नहीं. बहुत pahle से log jaan chuke है की kuch time bad गूगल+ का the end hone wala है.

    Sath ही गूगल ne apne official blog post में btaya था की गूगल+ में bug है jiski वजह से users का data leak हो raha है, isi वजह से गूगल इसे band कर  raha है.


    Conclusions:

    At last, गूगल+ के turn off hone की वजह गूगल dwara की gayi galtiya ही है. Is post की featured image में आप dekh sakte है की jaha फेसबुक को 10+ log join करते है wohi गूगल+ को 1 भी नहीं.

    Agar गूगल फेसबुक, twitter jaisa brand bana कर  kaam karta to आप inse kahi aage hota लेकिन गूगल ऐसा नहीं कर  saka और ab fail हो gaya.

    Ye the गूगल+ के fail hone के top 10 reasons, agar आपकी nazar में koi और reason है to comment में jarur btaye और ye post achhi lage to is post को सोशल मीडिया par share jarur kare.