How गूगल मैप Shows Real-Time Traffic? गूगल मैप लाइव Traffic कैसे दिखाता Hai?

    Google Map LiveTraffic कैसे दिखाता Hai?
    Google Map LiveTraffic कैसे दिखाता Hai?

    गूगल मैप Live Traffic Kaise Dikhata hai?

    गूगल मैप Live Traffic Kaise Dikhata hai?: दोस्तों अगर Aap एक स्मार्टफोन यूजर Hai या Fir Aap अपने कंप्यूटर पर इंटरनेट Access करते हैं हैं तो आपने गूगल मैप का इस्तेमाल जरुर किया होगा। जब भी Aap किसी स्थान पर जाने के लिए गूगल मैप का Help लेते हैं तो आपने Notice किया होगा कि हमें गूगल मैप के भीतर कहीं तरह की रंग बिरंगी लाइनें दिखाई देती हैं आखिर इन सभी लाइनों का क्या मतलब होता Hai कैसे गूगल मैप की सहायता से Hum सभी लाइव Traffic देख पाते हैं आज Hum इसी बारे में बताने जा रहे हैं।

    गूगल मैप में रंग बिरंगी लाइनें का क्या मतलब होता?

    गूगल मैप में अलग-अलग रंगों की Lines देखने को मिलते हैं:-

    Blue Line (नीली लाइन)
    Grey Line (मटीली लाइन)
    Red Line (लाल लाइन)
    Orange Line (सन्तरी लाइन)

    अगर आपको इन सभी लाइनों के बारे में जानकारी नहीं Hai आपको नहीं पता Hai कि गूगल कैसे Traffic Data कवर करता Hai? गूगल को कैसे पता चल जाता Hai कि इस Time किस सड़क पर कितने गाड़ी (Vehicle) चल रहे हैं? कैसे गूगल मैप के द्वारा हमें मालूम चल जाता Hai यह किस स्थान पर कितना Traffic Hai या नही Hai? आज के इस आर्टिकल में Hum इन सभी बातों के बारे में जानेंगे।

    तो सबसे पहले Hum बात कर लेते हैं इन सभी अलग-अलग तरह के रंगों की लाइनों के बारे में कि आखिर इन अलग-अलग रंगों की लाइनों का मतलब क्या Hai?


    Blue Line (नीली लाइन)

    जब भी Aap गूगल मैप के भीतर एक स्थान से दूसरी स्थान जाने के लिए Direction Search करते हैं तो आपको ऐसी Condition में दो तरह की लाइनें दिखाई देती हैं एक नीली लाइन और दूसरी मटीली लाइन (Grey Line)  .

    यहाँ पर नीली लाइन का मतलब Hai कि आपकी Destination तक जाने के लिए यह रास्ता एकदम साफ Hai और यह आपके लिए सबसे Fastest Rute Hai यानी कि इस रास्ते के द्वारा अगर Aap जाते हैं तो Aap सबसे जल्दी अपनी मंजिल तक पहुंच जाएंगे। किसी भी तरह की Traffic की परेशानी आपको नहीं झेलनी पड़ेगी।

    Grey Line (मटीली लाइन) 

    काफी बार किसी स्थान पर जाने के लिए एक से ज्यादा रास्ते उपलब्ध होते हैं यानी कि Aap चाहे तो किसी भी रास्ते से उस स्थान पर पहुंच सकते हैं तो इन Condition में जब भी Aap गूगल मैप के भीतर उस Place पर जाने के लिए Search करते हैं तो आपको नीली लाइन के साथ साथ मटीली लाइन भी दिखाई देती है। यहाँ पर Blue Color की लाइन का क्या मतलब Hai इसे Aap ऊपर समझ ही चुके हैं।

    Grey Color वाली लाइन का मतलब Hai की अगर Aap Blue Color वाली लाइन के रास्ते से नहीं जाना चाहते हैं या Fir आपको लगता Hai की उस रास्ते पर ज्यादा Traffic हो सकता Hai तो Aap Grey Color वाले रास्ते को भी चुन सकते हैं जो कि गूगल मैप के द्वारा दिखाया जाने वाला आपके लिए एक Alternate Route Hai जिसके द्वारा भी Aap अपनी मंजिल तक आसानी से पहुंच सकते हैं। हालांकि ब्लू कलर वाले Route की अपेक्षा Grey Color वाले Route में आपको थोड़ा सा ज्यादा Time लग सकता है।

    Red Line (लाल लाइन) 

    अगर एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने के लिए Direction Search करते वक़्त आपने Traffic का Option चुना हुआ Hai तो इन परिस्तिथियों में Blue Color line के बीच-बीच में कहीं-कहीं पर आपको Red Color Line भी दिखाई देती Hai जिसका मतलब Hai कि आपके रास्ते के उस हिस्से में काफी ज्यादा गाड़ियां चल रही हैं।
    जिसके कारण वहां पर Traffic जाम की स्थिति बनी हुई है। यानी कि जिस रास्ते पर Aap जा रहे हैं उस रास्ते के जिस-जिस हिस्से पर छोटी-छोटी लाल कलर की लाइनें बनी हुई Hai वह Lines Traffic को दर्शाती हैं।

    Orange Line (सन्तरी लाइन) 

    जैसे कि लाल कलर वाली LINE आपके Route के किसी भी हिस्से पर लगे Traffic जाम को दर्शाती है। ठीक उसी तरह Orange Color वाली लाइन भी Traffic जाम को ही दर्शाती है। लेकिन दोनों में फर्क सिर्फ इतना Hai कि लाल रंग वाली लाइन जिस स्थान पर होती Hai वहां पर काफी भारी जाम हो सकता है। वही जहां पर Orange Color वाली Line आपको दिखाई देती Hai वहां पर थोड़ा मीडियम जाम आपको मिल सकता है।


    गूगल मैप किस तरह से Traffic Data Cover करता Hai?

    तो चलिए अब Hum बात कर लेते हैं कि गूगल मैप किस तरह से Traffic Data Cover करता Hai?

    क्या यह Data गूगल मैप Satellite से लेता Hai? 
    या Fir Traffic की जो ऑर्गनाइजेशन Hai वहाँ से गूगल मैप क्यों यह सारा Data मिलता Hai?
    या Fir Aap और Hum यह सारा Data गूगल को देते हैं?
    दोस्तों गूगल मैप के द्वारा जो भी Traffic का हाल दिखाया जाता Hai कि कहां पर ज्यादा जाम लगा हुआ Hai कहां पर कम जाम लगा हुआ Hai यह सभी जानकारी गूगल को Aap से और Hum से ही प्राप्त होती है। लेकिन कैसे?

    गूगल मैप Live Traffic किस तरह से दिखाता है।

    यह सारा Data हमारे Smartphone के द्वारा ही गूगल को प्राप्त होता है। जब भी Aap कोई नया स्मार्टफोन लेते हैं या Fir जब भी कभी Aap अपने स्मार्टफोन पर पहली बार गूगल मैप को Open करते हैं या Fir गूगल की किसी भी लोकेशन Services को On करते हैं तो आपको यहां पर सबसे पहले “Terms and Agreements” Agree करने के लिए एक Option देखने को मिलता Hai और Hum बिना कुछ सोचे समझे उस “Terms and Agreements” को Agree कर देते हैं।

    इसी के साथ-साथ आपके सामने एक Pop-up और आता Hai जिसका सीधा-सीधा मतलब होता Hai कि “Google can monitor your location” यानी कि गूगल आपकी Present लोकेशन को Access कर सकता है। और Hum सभी उसको OK कर देते हैं। 

    Aap अभी कहां पर हैं?, किस स्थान पर Aap जा रहे हैं?, कहां पर Aap गए थे? यह सारी जानकारी गूगल Access कर सकता है।

    अब जब आपने पहली बार गूगल मैप को ओपन किया या Fir आपने पहली बार अपने स्मार्टफोन का Setup किया Hai तो आपने गूगल की सभी “Terms and Conditions” को तो Agree कर ही लिया है।

    अब ऐसे में अगर Aap किसी एक स्थान से गूगल मैप के द्वारा किसी दूसरे स्थान पर जाते हैं या जा रहे हैं चाहे आपने गूगल मैप को open किया हुआ हो या नहीं हो। लेकिन अगर आपके पास एक स्मार्टफोन Hai तो ऐसे में गूगल को आपकी वर्तमान लोकेशन की पूरी जानकारी है। गूगल को मालूम Hai कि Aap किस दिशा में जा रहे हैं और कितनी स्पीड से Aap किसी Particular Direction में Move कर रहे हैं?

    अब Aap खुद सोच सकते हैं कि Aap के जैसे न जाने कितने और लोग गूगल मैप के द्वारा या Fir अपने स्मार्टफोन के साथ उस स्थान पर मौजूद होंगे या उसी दिशा में जा रहे होंगे। तो ऐसे में गूगल को उन सभी व्यक्तियों की वर्तमान लोकेशन की जानकारी उनके स्मार्टफोन के द्वारा मिलती रहती है। तो इसी तरीके से गूगल यह मालूम करता Hai कि इस Time किस स्थान पर कितनी गाड़ियां कितनी तेजी से Move कर रही है।

    तो ऐसी परिस्थिति में गूगल काफी सारे Users के Data को Collect करने के बाद Average निकाल कर एक Estimate Result हमें दिखाता Hai कि इस Time उस Particular स्थान पर इतनी गाड़ियां मौजूद Hai और वह कितनी तेजी से किस दिशा की तरफ Move कर रही Hai? अब जिस स्थान पर गाड़ियां बिल्कुल धीमी स्पीड से चल रही Hai तो वहां पर गूगल की तरफ से लाल रंग वाली लाइन दिखाई जाती है। और जिस स्थान पर थोड़ी सी भी स्पीड से अगर गाड़ियां किसी भी दिशा की तरफ Move कर रही Hai तो वहां पर गूगल के द्वारा Orange Color वाली लाइन दिखाई जाती है। और अगर गाड़ियां अपनी Normal Speed से किसी भी दिशा की तरफ Move कर रही Hai तो वहां पर गूगल की तरफ से नीले रंग वाली लाइन दिखाई देती है। तो Users का Data Collect करने के बाद Users की ही Help करना Crowed Sourcing कहलाता है। 

    यानी कि Crowed Sourcing की मदद से ही गूगल मैप Live Traffic को दिखाता है। अब ऐसा नहीं Hai कि गूगल केवल GPS या Fir स्मार्टफोन के द्वारा ही आपकी लोकेशन के बारे में मालूम करता Hai जिस दिशा में Aap जा रहे हैं वहां पर आपके सेल फोन के टावर की द्वारा भी Aap की लोकेशन का पता लगाया जाता Hai अगर Aap WI-FI इस्तेमाल कर रहे हैं तो भी Aap की लोकेशन गूगल को मालूम चलती रहती है।

    तो अब Aap समझ ही गए होंगे कि गूगल मैप को Live Traffic दिखाने में Hum सब ही गूगल की मदद करते हैं यानी कि लाइव Traffic दिखाने के लिए गूगल “Crowed Sourcing” का Help लेता है।