गूगल AMP क्या है ? इसके फायदे और नुकसान क्या हैं?

    गूगल AMP क्या है  इसके फायदे और नुकसान क्या हैं गूगल AMP कैसे काम करता है  गूगल AMP कैसे Start हुआ
    गूगल AMP क्या है  इसके फायदे और नुकसान क्या हैं गूगल AMP कैसे काम करता है  गूगल AMP कैसे Start हुआ

    दोस्तों क्या आपको मालूम है की गूगल AMP (Accelerated Mobile Pages) क्या है ( What is गूगल AMP in Hindi )? बहुत सारे Users को अभी भी इस की जानकारी नहीं है अगर आप भी उनमे से एक हैं तो शर्माने की बात नहीं है क्यों की आये दिन गूगल नयी नयी technology लाता रहता है और ऐसे में हर किसी को हर जानकारी कभी जल्दी और कभी थोड़ी देर से मिलती है. चलिए आज आप को भी गूगल AMP की जानकारी यहाँ अच्छे से मिल जाएगी। अगर आप नहीं जानते तो मैं ये तो बताऊंगा ही साथ ही ये भी बताऊंगा की Google AMP के नुकसान और फायदे क्या हैं ?

    आप जब कभी भी अपने Smartphone में गूगल सर्च इंजन से कुछ सर्च करते हैं तो कभी ध्यान दिया है की एक symbol Electric light तरह का दिखाई देता है. क्या Aapne कभी गौर किया है इसके बारे में ? जी हाँ आपने भी ये निशान जरूर देखा होगा क्यों की आजकल बहुत सारी Website/Blog गूगल AMP feature का प्रयोग कर रही हैं. किसी भी कीवर्ड को सर्च कर कर के देखे आपको उनमे से कुछ रिजल्ट्स AMP वाले symbol के जरूर मिलेंगे । जिन Website/Blog में ये symbol आपको दिखाई देता है समझ ले की वो गूगल AMP का Use कर रहे हैं. इसका सबसे अहम् मकसद ये है की Website/Blog बहुत तेज़ी से load होकर Mobile में उसके पेज खुले।

    गूगल AMP SEO के लिए किस तरह फायदेमंद है ? इसका क्या महत्व है ? और गूगल AMP Use करने का क्या नुक्सान है? क्या Website/Blog के लिए इसका Use करना सही है या गलत? इसी तरह के अपने doubts को आप clear करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को Start से अंत तक पूरा पढ़े . क्यों की मैं इस पोस्ट में गूगल AMP क्या है (What is गूगल AMP in Hindi) और इसके फायदे और नुकसान क्या हैं ? इसके बारे में विस्तार से जानेंगे

    गूगल AMP क्या है – What is गूगल AMP in Hindi

    AMP (Accelerated Mobile Pages) को ही short form में गूगल AMP बोला जाता है. ये एक Open source framework है जो किसी भी Website/Blog के पेज का एक AMP पेज बना देता है जिसकी मदद से Website/Blog को Mobile में बहुत ही कम Time में तेज़ी से खोला जा सकता है. जब किसी Website/Blog में गूगल AMP plugin इनस्टॉल किया जाता है तो वो उसके सभी canonical Post/Content के अलावा एक अलग AMP पेज भी बना देता है. और जब कोई Smartphone यूजर उस पेज को अपने फोन में खोलता है तो canonical पेज की बजाय AMP पेज खुलता है लेकिन ये बहुत तेज़ी से खुल जाता है.

    इसके लिए AMP Javascript, AMP HTML और AMP Cache का Use करता है. ये canonical page से उतना ही कंटेंट को AMP Page में दिखता है जितने में User को उसकी जानकारी पूरी मिल जाये। जो अतिरिक्त चीज़ें होती हैं उसे वो नहीं दिखाता जिसकी वजह से पेज बहुत light weight का हो जाता है और तेज़ गति से खुल जाता है.

    आजकल हर किसी के हाथ में Smartphone है और User सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक Smartphone का Use करते हैं. हम सभी ये अच्छे से जानते हैं की Smartphone में User ज्यादातर काम कर लेते हैं. Desktop/Computer का Use बहुत कम करते हैं. 70 -80 % User Web-browsing करने के लिए Phones का ही Use करते हैं. Desktop/Computer की तुलना में ये आंकड़ा बहुत ज़्यादा है. एक Time था जब सारे काम Desktop/Computer से ही होते थे. Desktop/Computer के बिना Online रिलेटेड काम करने का और कोई साधन नहीं था. लेकिन Phones ने सारी मुश्किल हल कर दी.

    Website /Blog पर भी जो ज़्यादा Traffic होती है वो Smartphone से ही आती है.चूँकि अब Phones में User ज़्यादातर Internet का Use करते हैं और Browsing भी करते हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए AMP को Start किया गया. इसकी खासियत ये है की ये पलक झपकते ही Webpages को खोल देता है. ये किसी भी तरह के Website/Blog को Superfast Browsing करने लायक बना देता है.

    गूगल AMP SEO के लिए कैसे महत्वपूर्ण है?

    बहुत से ऐसे एरिया होते हैं जहाँ इंटरनेट connectivity अच्छी नहीं होती और Speed भी बहुत कम होती है. इस तरह के एरिया में Internet का प्रयोग करना और उसमे किसी webpage को ओपन करना ही मुश्किल होता है. उन एरिया में भी AMP एक बहुत अच्छा विकल्प है जिससे Low Connection Speed होने पर भी पेज बहुत जल्दी खुल जाता है.

    गूगल के Survey के मुताबिक़ ये पाया गया है की कोई भी user जब किसी website के page को ओपन करता है. तो बस 2 -3 Seconds ही पेज खुलने इंतज़ार करता है. ऐसे में अगर website ज़्यादा Time लेती है तो फिर User किसी और Website/Blog से अपनी इनफार्मेशन ले लेता है. भले ही आपके website में High Quality Content आपने लिखा हो लेकिन Website/Blog Speed कम होने से User Page खुलने से पहले ही चले जाते हैं.अब आप बस सोचो की अगर आप AMP का Use करते हैं तो फिर ये आपके Website/Blog की Loading Time बहुत कम कर देती है .

    AMP का Use करने से Website/Blog 1 Second से भी काम टाइम में खुल जाती है.तो अब आप समझ ही गए होंगे की इसके प्रयोग से हम अपनी ट्रैफिक को अच्छी खासी Increase कर सकते हैं और AMP User को अच्छी Browsing experience भी देती है. जब Website/Blog की Loading Speed कम होगी तो ट्रैफिक भी अच्छी बढ़ेगी और इसीलिए AMP SEO को बहुत support करता है. अगर Website/Blog स्पीड अच्छी होती है तो User को भी प्रभावित करता है और इससे user दुबारा Website/Blog में आते हैं.

    गूगल AMP कैसे Start हुआ ?

    Mobile वेब की परफॉरमेंस को सुधारने के लिए गूगल ने News Publishers और Technology से जुडी कंपनियों से बात कर के 7 October 2007 गूगल AMP प्रोजेक्ट के बारे में announce किया। 30 News publisher और टेक्नोलॉजी कंपनियों जैसे Pinterest, linkedin और WordPress ने मिलकर गूगल के साथ इस प्रोजेक्ट की शुरुआत की।

    AMP (Accelerated Mobile Pages) एक Open Source Website Publishing Technology है, जिसका Design इस लिए किया गया ताकि Website/Blog की Performance को सुधारा जा सके. और Users को बेहतर से बेहतर सेवा दी जा सके. गूगल ने AMP Version के web Post/Content को पहली बार February 2016 में users को mobile search results में दिखाया। उसी साल में Facebook Instant Articles की भी शुरुआत की गई जो की गूगल AMP का एक Competitor की तरह माना गया.

    इस तरह AMP की शुरुआत हुई और अब तो बहुत सारी Website/Blog की AMP Version भी है.

    गूगल AMP कैसे काम करता है ?

    गूगल AMP Open web में काम करता है और लगभग हर Browser में ये support करता है. जब किसी Website/Blog का AMP version बनाया जाता है तो Website/Blog के Standard Page के Source Code के अंदर में HTML Tag में AMP Page के लिए एक लिंक तैयार हो जाता है. इस तरह से किसी भी Website/Blog का AMP Version का Page भी display हो जाता है जब website का AMP version बनाते है.

    Website/Blog के AMP Post/Content Web Crawlers की नज़र में जल्दी आ जाते हैं, इसलिए जो search engines और referring websites होते हैं वो AMP Version के लिंक को पहले search कर लेते हैं Standard version की तुलना में.

    गूगल AMP SEO के लिए बहुत फायदेमंद है क्यों की ये बहुत fast Post/Content को load करता है. AMP Post/Content इतना fast load होने का कारण क्या होता है ? AMP (Accelerated Mobile Pages) इसीलिए बहुत fast load होता हैं क्यों की Standard Page का सिर्फ main content ही AMP Page में show किया जाता है. Widgets और extra contents जो Standard Page में होते हैं इन्हे AMP version में नहीं load किया जाता है. इस तरह page size बहुत कम हो जाती है और AMP page super fast speed से लोड हो जाता है. गूगल report के अनुसार AMP Post/Content जिसे गूगल search results में show करता है, वो 1 second से भी कम Time में लोड हो जाता है. Standard Page की तुलना में AMP Page 10 गुना कम डाटा का Use करता है.

    AMP System 3 Main Parts में Divided है.


    AMP HTML
    ये HTML language पर ही काम करता है. Website के contents को अपनी जरुरत के अनुसार सेट कर दिया जाता है.

    AMP Javascript
    ये Main Source के Contents को manage करता है और जल्दी AMP Page को Load कराता है.

    गूगल AMP Cache’s
    ज़्यादातर AMP Post/Content जो होते हैं वो गूगल AMP Cache’s के द्वारा ही display किये जाते हैं. लेकिन इसके अलावा भी दूसरी कंपनियां हैं जो AMP Cache को support करती हैं. इस तरह की कंपनी Cloudflare है जो AMP Cache की सेवा देती है.

    गूगल AMP के फायदे – Benefits of गूगल AMP in Hindi

    आप सभी को ये मालूम है की आज के टाइम में 70 -80 % User Smartphone का use करते हैं Browsing के लिए.अगर हम अपनी Website/Blog में ज़्यादा Traffic लाना चाहते हैं तो AMP एक बेहतर विकल्प है. Users को अगर Load time कम मिलेगा तो website की स्पीड ज़्यादा रहेगी और उन्हें browsing करने में आसानी होगी। ऐसे में Website/Blog की स्पीड अच्छी होने से Users में site reputation अच्छी बनेगी और Traffic और ज़्यादा बढ़ जाएगी।

    AMP SEO के लिए अच्छी है क्यों की Web crawlers AMP Post/Content को Normal Post/Content की तुलना में जल्दी सर्च करते हैं.और इस तरह Organic Traffic भी ज़्यादा बढ़ जाएगी Website/Blog की.साथ ही गूगल AMP में Auto Ads की setting भी कर सकते हैं.

    गूगल AMP के नुकसान – Disadvantage of गूगल AMP in Hindi

    Website/Blog को जल्दी लोड करने के लिए AMP Version के Page में सिर्फ Main Content ही शो किया जाता। AMP version में भी गूगल Adsense के Ads लगाने का option रहता है. लेकिन AMP Post/Content में गूगल Adsense या फिर दूसरे Advertisement जो होते हैं वो कम संख्या में शो होते हैं । Impression बहुत कम आती है और इसकी वजह से Revenue काफी काम हो जाती है.

    इसके अलावा इसमें comment box का भी ऑप्शन नहीं होता इसके लिए फिर यूजर को Non-AMP पेज में जाना पड़ता है. इसमें मनपसंद Themes भी लगाने के लिए पैसे चुकाने पड़ते हैं. Free में बस कुछ ही Theme ये हमे देते हैं।

    एक बार अगर आपने अपने Website/Blog में AMP enable तो फिर गूगल आपके Website/Blog के mobile में सिर्फ AMP Post/Content ही index होंगे। इस कंडीशन में अगर आप गूगल AMP disable करेंगे तो सभी पेज के index होने से उन्हें 404 error message आएगा। ज्यादा बड़ी Website/Blog में पोस्ट की संख्या बहुत होती है ऐसे में इतने सारे पोस्ट के बाद AMP को disable करना बहुत ही मुश्किल वाला काम है.

    संक्षेप में

    दोस्तों आपको ये पोस्ट गूगल AMP क्या है (What is गूगल AMP in Hindi) कैसी लगी? मैं उम्मीद करता हूँ की आपको इससे जुडी हर महत्वपूर्ण जानकारी मिल गयी होगी। हमने यहाँ गूगल AMP की फायदे और नुकसान क्या हैं? इसके अलावा हमने ये भी जानना की गूगल AMP काम कैसे करता है? Smartphone के ज़माने में हर कोई अब चाहता है की उसेर्स तक पहुँच सके इसमें गूगल ने AMP को लाकर काफी बड़ा बदलाव किया है. गूगल AMP (Accelerated Mobile Pages) की जानकारी आपको हेल्पफुल लगी हो तो इस पोस्ट को अपने फ्रेंड्स के साथ फेसबुक,गूगल plus , ट्विटर,इंस्टाग्राम में जरूर शेयर करें।

    AMP से related अगर किसी भी तरह की problem आपको आ रही हो तो आप comment box में पूछ सकते हैं. मैं आपके problems solve करने की पूरी कोशिश करूँगा.